Zid Rah Gai Thi


Hindi Sad Shayari, Zid Rah Gai Thi
Zid Rah Gai Thi

Vaise Koi Chah Nahi Thi Tumhe Yaad karne Ki,
Ham To Sirf Hamare Zid Ke Aage Than Baithe The,
Is Dil Me Tumhare Liye Sabkuch Tha,
Tum To Usi Ko Bhula Vaithe The.
वैसे कोई चाह नही थी तुम्हे याद करने की,
हम तो सिर्फ हमारे जिद के आगे ठान बैठे थे,
इस दिल में तुम्हारे लिये सबकुछ था,
तुम तो उसी को भूला बैठे थे।


Zid Rah Gai Tab Hamari Tumhare Upar,
Fasana Tumhe Kya Samajha Tha Kya Nikle,
Vo Vakt Sahi Nahi Tha Jise Ham Taal Pae,
Jindgi Ki In Kamiyo Ko Dur Karke Ham Tumhe Jaan pae.
जिद रह गई तब हमारी तुम्हारे ऊपर,
फसाना तुम्हे क्या समझा था क्या निकले,
वो वक्त सही नही था जिसे हम टाल पाए,
जिंदगी की इन कमियों को दूर करके हम तुम्हे जान पाए।


Mai Nahi Karta Un Palo Ko Yaad,
Jisme Tumhara Masum Saa Chehra Tha,
Mai Kuch Nahi Samjhata Meri Us Zid Ko,
Jinpe Mene Aankh Munj Ke Tumpe Vishvash Kiya Tha,
मै नहीं करता उन पलो को याद,
जिसमे तुम्हारा मासूम सा चेहरा था,
मै कुछ नहीं समझता मेरी उस जिद को,
जिनपे मैने आँख मूँज के तुमपे विश्वाश किया था, 

Khaali Thi Meri Vo Duniya,
Jisme Tumhara Bhi Tha Ek Ghar,
Na Raat Thi Na Kisi Or Ka Dar,
Jisme Tum The Sath Or Ham The Tumhare Pass.
खाली थी मेरी वो दुनिया,
जिसमे तुम्हारा भी था घर,
ना रात थी ना किसी और का डर,
जिसमे तुम थे साथ और हम थे तुम्हारे पास।

 Mai Ye Kese Maan Lu Ki Tum Sahi The,
Tumne Kya Samjha Ham Ab Bhi Vahi The,
Hamari Us Zid Ne Hamari Tanhai Bikher Di,
Jis Tanhai Se Ham Tumhe Chah Paaye.
मै ये कैसे मान लू की तुम सही थे,
तुमने क्या समझा हम अब भी वही थे,
हमारी उस जिद ने हमारी तन्हाई बिखेर दी,
जिस तन्हाई से हम तुम्हे चाह पाये।
 
   

0 Comments