Two Line Shayari

Two Line Shayari


Two Line Shayari On Sambandh

Two Line Shayari on Sambandh
Two Line Shayari on Sambandh


Sambandh Bhee Anoothee Parampara Hai Do Logo Ke Beech Ka,
Kabhee Judata Bhee Hai To Kabhee Toot Bhee Jaata Hai.
सम्बन्ध भी अनूठी परम्परा हे दो लोगो के बीच का,
कभी जुड़ता भी हे तो कभी टूट के बिखर भी जाता है।

Chamakata Hua Chandrama Roshanee Deta Hua Soory,
Maano Ki Yah Ek Doosare Ke Sandhi Ho.
चमकता हुआ चन्द्रमा रौशनी देता हुआ सूर्य,
मानो की ये दोनों एक दूसरे के संधि हो।

Mat Jalo Kisee Doosare Ke Sambandh Ko Dekhkar Varana,
Vo Din Door Nahin Jab Apane Hee Hamen Shak Kee najaron Se Dekha Karenge.
मत जलो किसी दूसरे के सम्बन्ध को देखकर वरना,
वो दिन दूर नहीं जब अपने ही हमें शक की नजरो से देखा करेंगे।

Sambandh To Banaaya Tha Unhonne Hamase,
Par Nibhaane Kee Unakee Aukaat Nahin.
सम्बन्ध तो बनाया था उन्होंने हमसे,
पर निभाने की उनकी ओकात नहीं।

Yadi Hamen Aage Badhane Se Roka Gaya Ho To,
Samajh Lena Dosto Ye Kisee Hamaare Apane Ne Hi Kiya Hai.
यदि हमे आगे बढ़ने से रोका गया है तो,
समझ लेना दोस्तों ये किसी हमारे अपने ने ही किया है। 

Tumhen Lagata Hai Ki Aaeena Sirph Chehare Ke Lie Hota Hai,
Ek Baar Achche Se Dekho Yah Sirph Apanee Aukaat Bataane Ke Lie Hota Hai.
तुम्हे लगता है की आईना सिर्फ चेहरे के लिए होता है,
एक बार अच्छे से देखो यह सिर्फ अपनी ओकात बताने के लिए होता है।

Sambandh Nibhaane Ka Yah Matalab Nahin Ki Ham Tumhaare Kareeb Hai,
Sambandh Nibhaane Ka Yah Matalab Hai Ki Ham Tumhaare Sath hai.
सम्बन्ध निभाने का ये मतलब नहीं की हम तुम्हारे करीब है,
सम्बन्ध निभाने का ये मतलब है कि हम तुम्हारे साथ है।   

Jaan Hathelee Par Rakhakar Ghar Mein Rakha Tha Hamane Unako,
Par Dekho Kismat Bhee Kuchh Kaam Nahin Aa Paai.
जान हथेली पर रखकर घर में रखा था हमने उनको,
पर देखो किस्मत भी कुछ काम नहीं आ पाई। 

0 Comments