Maa Ki Tasveer

Maa Ki Tasveer


Maa Shayari, Maa Ki Tasveer
Maa Shayari, Maa Ki Tasveer

Jab Kabhi Bhi Aakela Pareshan Hota Hu,
To Apne Pars Me Rakhi Maa Ki Tasveer Ko Sine Se laga Leta Hu,
जब कभी भी अकेला परेशान होता हूँ,
तो अपने पर्स में रखी माँ की तस्वीर को सीने से लगा लेता हु।

Bhool Gaya Tha Mai Us Pal Ko,
Jab Tu Hamesha Mujhe Seene Se Laga Ke Rakhti Thi.
भूल गया था मै उस पल को,
जब तू हमेशा मुझे सीने से लगा के रखती थी।

Savargaya Gaya Unka Jeevan Teri Kokh Se,
Bhool Baithe Maa Vo Tuje Apne Lobh Se.
सवरगया गया उनका जीवन तेरी कोख से,
भूल बैठे माँ वो तुझे अपने लोभ से।  

Mahsoos Nahi Kar Paata Jab Tak Teri Un Yaadon Ko,
Jab Tak Maa Teri Ek Tasveer Ko Apne Pass Nahi Rakh Leta.
महसूस नहीं कर पाता जब तक तेरी उन यादों को,
जब तक माँ तेरी एक तस्वीर को अपने पास नहीं रख लेता।

Khushi Hoti He Mujhe Jab Mai Apni Maa Ko Mere Pass paata hun.
Muskil Vakt Hota He Vo Pal Jab Mere Pass Maa Ki Koi Nishani Nahi Hoti.
खुशी होती हे मुझे जब मै अपनी माँ को मेरी पास पाता हूँ,
मुश्किल वक्त होता हे वो पल जब मेरे पास माँ की कोई निशानी नहीं होती।

Maa Teri Us Tasveer Ko Mai Apne Pass Rakhta Hun,
To Mujhe Teri Us Tasveer Me Mera Bhagwan Najar Aata Hai.
माँ तेरी उस तस्वीर को मै अपने पास रखता हूँ,
तो मुझे तेरी उस तस्वीर में मेरा भगवान नजर आता है।

 Nind Bhi Bhala Tujhe Kaise Aati Hogi Maa,
Jab Mujhe Kabhi Dard Hota Hoga.
नींद भी भला तुझे कैसे आती होगी माँ,
जब मुझे कभी दर्द होता होगा। 

Teri Khushi Meri Khushi Me Hai,
Teri Tasveer Mere Seene Me Hai.
तेरी खुशी मेरी खुशी में है,
तेरी तस्वीर मेरे सीने में है।

   

2 Comments

Please You can ask me any question in comment box.